Sardar Vallabhbhai Patel Kindle ☆ Sardar Vallabhbhai

Sardar Vallabhbhai Patel Kindle ☆ Sardar Vallabhbhai


Sardar Vallabhbhai Patel [Reading] ➽ Sardar Vallabhbhai Patel By Balraj Krishna – Capitalsoftworks.co.uk As prime minister of Britain Churchill had ordered the preparation of an imperial strategy with the intention of balkanising India and tightening Britain’s post war hold over her The strategy envisa As prime minister of Britain Churchill had ordered the preparation of an imperial strategy with the intention of balkanising India and tightening Britain’s post war hold over her The strategy Sardar Vallabhbhai PDF or envisaged two Pakistans one in the west and the other in the east both large in size at India’s expense the west to include the non Muslim east Punjab; the east the whole of Bengal despite Hindus comprising almost half the population and the predominantly Hindu Assam Within her borders India was to be balkanised with the creation of independent confederations of princely states Attlee’s policy statement of February was to implement the same and Mountbatten was given the mandate to transfer power and uit India by June a date that was advanced to August However Churchill’s imperial strategy was foiled by Patel He stood in the way of transfer of power unless Punjab and Bengal were divided Fearing the loss of Congress cooperation Mountbatten was forced to reach an agreement with Patel Patel’s most significant gain was the concession that Britain would not interfere in the settlement with the princes This enabled Patel to integrate over princely states in a period of about months and helped him to create a united India This book examines the extraordinary contribution of Sardar Patel from his unflinching support to Gandhi’s satyagrahas and the Indian freedom struggle to his farsighted and courageous approach in building a strong integrated IndiaAbout Author Balraj Krishna began his career as a journalist with the Civil Military Gazette Lahore in Post Partition in New Delhi he was with the Publicity Division of the External Affairs Ministry and the British Information Services He was a special correspondent with the Hindustan Times in Kashmir His articles book reviews and photo features appeared in the Illustrated Weekly of India the Times of India the Economic Times the Hindu and Frontline besides Eastern World London He is the author of Indian Freedom Struggle and Sardar Vallabhbhai Patel India's Iron Man.

  • Paperback
  • 340 pages
  • Sardar Vallabhbhai Patel
  • Balraj Krishna
  • English
  • 01 February 2016
  • 9788188569243

2 thoughts on “Sardar Vallabhbhai Patel

  1. Neelesh Tiwari Neelesh Tiwari says:

    कास आपकी उम्र और लंबी होती है तो भारत की दिशा कुछ और होती मगर यह हो न सकाएक बहुत ही अच्छी किताब जो तथ्यों और प्रमाणों से भरी है और हमें भ्रमित नहीं करती बल्कि हमारे भ्रम को दूर करती है फिर मन को सोचने पर मजबूर करती है कि क्यों इस महापुरुष को हमसे दूर रखा गया या हमें स्कूलों में जितना औरों के बारे में पढाया जाता है इनके बारे में नहींं पढाया गयायह किताब जैसे जैसे पूरी होती जाती है इन प्रश्नों के उत्तर भी मिलते जाते हैं और सरदार के प्रति प्रेम और आदर बढता जाता हैकम बोलने वाले मजबूत फैसले लेने वाले और फिर उस फैसले पर अटल रहने वाले ऐसे व्यक्ति जिनकी जवान को लोग आदेश मानते थे कभी लिखित नहीं मांगा इतना विश्वास एक राजनेता में होना आज आश्चर्य पैदा करता हैलगभग 560 रियासतों को एक करने में जहां सरदार ने निर्णय लेने में कड़ा रुख अपनाया वहीं रजवाड़ों के साथ उदारतापूर्वक व्यवहार कर देश के विकास में सहयोगी बनाकर और जिम्मेदारियां देकर उन्हें अपना मुरीद भी बनाया चाहे वह हैदराबाद के नवाब ही क्यों न होंप्रशासनिक अधिकारियों पर विश्वास और पकड़ दोनों उनकी विशेषता और विशेषज्ञता भी थी जिसे आज के राजनीतिज्ञों को उनसे सीखनी चाहिएकृष्णन जी ने किताब को लिखते वक्त हर विवाद पैदा होने वाले प्रसंगों पर प्रमाण रखकर इस किताब को खयाली और दरबारी किताब बनने से बचा लिया जम्मू कश्मीर और तिब्बत पर सरदार की बातें नेहरु मानते तो आज देश की दिशा और दशा कुछ और होती हैनेहरू जी जहां ढुलमुल थे तो सरदार ठोस थे कृष्णा जी ने बहुत ही मेहनत से यह शोधपरक और शानदार किताब लिखी है इसे अवश्य पढिये क्योंकि यह पुस्तक पूरी होने के बाद एक महापुरुष के पूरे जीवन का शानदार अनुभव तो देती ही है लेकिन उनको और ज्यादा जानने की जिज्ञासा भी पैदा करती है।

  2. arpit arpit says:

    One of the best biography on Iron man of India It seamlessly depicts the transition of Patel from a lawyer to a freedom fighter and then to the person we all know as architect of IndiaHe portrays many incidences which highlights his views and later how he tried protect Indian integrity from the hands of Nehru Gandhi and Mountbatten His actions as a first home minister His energetic and heroic persona by which he was able to build India which was otherwise given as a scattered beans to the leaders

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 thoughts on “Sardar Vallabhbhai Patel

  1. Neelesh Tiwari Neelesh Tiwari says:

    कास आपकी उम्र और लंबी होती है तो भारत की दिशा कुछ और होती मगर यह हो न सकाएक बहुत ही अच्छी किताब जो तथ्यों और प्रमाणों से भरी है और हमें भ्रमित नहीं करती बल्कि हमारे भ्रम को दूर करती है फिर मन को सोचने पर मजबूर करती है कि क्यों इस महापुरुष को हमसे दूर रखा गया या हमें स्कूलों में जितना औरों के बारे में पढाया जाता है इनके बारे में नहींं पढाया गयायह किताब जैसे जैसे पूरी होती जाती है इन प्रश्नों के उत्तर भी मिलते जाते हैं और सरदार के प्रति प्रेम और आदर बढता जाता हैकम बोलने वाले मजबूत फैसले लेने वाले और फिर उस फैसले पर अटल रहने वाले ऐसे व्यक्ति जिनकी जवान को लोग आदेश मानते थे कभी लिखित नहीं मांगा इतना विश्वास एक राजनेता में होना आज आश्चर्य पैदा करता हैलगभग 560 रियासतों को एक करने में जहां सरदार ने निर्णय लेने में कड़ा रुख अपनाया वहीं रजवाड़ों के साथ उदारतापूर्वक व्यवहार कर देश के विकास में सहयोगी बनाकर और जिम्मेदारियां देकर उन्हें अपना मुरीद भी बनाया चाहे वह हैदराबाद के नवाब ही क्यों न होंप्रशासनिक अधिकारियों पर विश्वास और पकड़ दोनों उनकी विशेषता और विशेषज्ञता भी थी जिसे आज के राजनीतिज्ञों को उनसे सीखनी चाहिएकृष्णन जी ने किताब को लिखते वक्त हर विवाद पैदा होने वाले प्रसंगों पर प्रमाण रखकर इस किताब को खयाली और दरबारी किताब बनने से बचा लिया जम्मू कश्मीर और तिब्बत पर सरदार की बातें नेहरु मानते तो आज देश की दिशा और दशा कुछ और होती हैनेहरू जी जहां ढुलमुल थे तो सरदार ठोस थे कृष्णा जी ने बहुत ही मेहनत से यह शोधपरक और शानदार किताब लिखी है इसे अवश्य पढिये क्योंकि यह पुस्तक पूरी होने के बाद एक महापुरुष के पूरे जीवन का शानदार अनुभव तो देती ही है लेकिन उनको और ज्यादा जानने की जिज्ञासा भी पैदा करती है।

  2. arpit arpit says:

    One of the best biography on Iron man of India It seamlessly depicts the transition of Patel from a lawyer to a freedom fighter and then to the person we all know as architect of IndiaHe portrays many incidences which highlights his views and later how he tried protect Indian integrity from the hands of Nehru Gandhi and Mountbatten His actions as a first home minister His energetic and heroic persona by which he was able to build India which was otherwise given as a scattered beans to the leaders

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *